Blogger Widgets
धर्मजागृति,हिन्दू-संगठन एवं राष्ट्ररक्षा हेतु साधकों द्वारा साधनास्वरूप आर्थिक हानि सहते हुए भी चलाया जानेवाला एकमात्र पाक्षिक !
आषाढ शुक्ल पक्ष १२ - श्रावण कृष्ण पक्ष १३,
कलियुग वर्ष ५११८ (१६ से ३१ जुलाई २०१६)

गुरुपुर्णिमा की जानकारी देनेवाला वीडियो

सुकुमार आयु में साधना की तीव्र उत्कंठा के कारण स्वयं में आमूल परिवर्तन करनेवाला कु.कन्हैया श्रीवास्तव !

     सनातन आश्रम, रामनाथी (गोवा) - साधक के जीवन में गुरुपूर्णिमा का उत्सव ही सर्वोच्च आनंद देनेवाला उत्सव होता है । वास्तव में इस दिन शिष्य श्रीगुरू को गुरुदक्षिणा देते हैं;पर सनातन में श्रीगुरु ही हमें सब कुछ देते हैं । बिहार से रामनाथी आश्रम में साधना करने आया,निरंतर सीखने की स्थिति में रहनेवाला बालसाधक कन्हैया श्रीवास्तव (आयु १२ वर्ष)ने ६१ प्रतिशत आध्यात्मिक स्तर प्राप्त किया,यह घोषित किया गया ।

साधकों से पितृवत प्रीति करनेवाले सनातन के छठे संत पू.राजेंद्र शिंदे सद्गुरुपद पर आरूढ !

सनातन आश्रम देवद, पनवेल, महाराष्ट्र - साधकों से पितृवत प्रीति करनेवाले सनातन के छठें संत पू.राजेंद्र शिंदे को सद्गुरुपद पर विराजमान कर भगवान ने सनातन के साधकों को गुरुपूर्णिमा के शुभदिन अनमोल भेंट दी । नेतृत्व,नियोजनकौशल्य,तत्परता,समयसूचकता,सतर्कता,प्रीति,आर्त शरणागति आदि गुणसमुच्चय से युक्त पू.राजेंद्रजी द्वारा सद्गुरुपद प्राप्त करने की इस शुभवार्ता से पू.राजेंद्रजी के संत से सद्गुरु की यात्रा के साक्षी बने देवद आश्रम के साधकों के नेत्र भीग गए !

तन-मन-धन अर्पित कर गुरुसेवा करनेवालीं, साधकों को आध्यात्मिक स्तर पर आधार देते हुए मां की ममता बरसानेवालीं पू.(श्रीमती)सुशीला मोदी भाभी की ध्यान में आई कुछ गुणविशेषताएं !

     अन्य महिलाएं इस आयु में अपने नाती-पोतों में व्यस्त रहती हैं । अधिक से अधिक भजन,पाठ आदि में सहभागी होकर व्यष्टि अर्थात अपनी व्यक्तिगत साधना करती हैं । इसके विपरीत पू.मोदी भाभी सक्रिय धर्मप्रसार कर समष्टि साधना करते हुए ही व्यष्टि साधना भी उतनी ही गंभीरता से करती हैं ।

माया के कर्तव्यों की पूर्ति करते हुए अध्यात्म में संतपद प्राप्त करनेवालीं राजस्थान की सुशीला मोदीभाभी !

     जोधपुर, राजस्थान की श्रीमती सुशीला मोदी (६५ वर्ष)का पूरा परिवार सनातन संस्था के मार्गदर्शनानुसार साधना करता है । उन्होंने बच्चों पर उत्तम संस्कार किए हैं तथा उनकी पोतियां कु.अनन्या,वेदिका और साक्षी,उच्च लोकों से पृथ्वी पर जन्मी हैं ।

साधकाें के लिए सूचना,तथा सनातन प्रभात नियतकालिकों के सदस्य एवं विज्ञापनदाताआें से निवेदन !

     धर्माभिमानी हिन्दू एवं जिज्ञासु, सनातन प्रभात नियतकालिकों के नूतन जालस्थल (वेबसाइट)से नियतकालिकों के सदस्य बन सकते हैं, तथा जालस्थल द्वारा नियतकालिक की अपनी सदस्यता का नूतनीकरण भी कर सकते हैं । जालस्थल द्वारा विज्ञापनदाता सनातन प्रभात के किसी भी नियतकालिक के लिए विज्ञापन देकर राष्ट्र एवं धर्म के कार्य में अपना अनमोल योगदान दे सकते हैं । विज्ञापनदाताआें के जालस्थल पर उपलब्ध ऑनलाइन फॉर्म भरने पर संबंधित साधक आगे की प्रक्रिया के लिए विज्ञापनदाता से संपर्क करेंगे । 
जालस्थल की लिंक आगे दिए अनुसार है : 
www.sanatanprabhat.org/subscribe

फ्रांस इस्लामी आतंकवाद की छाया में ! - फ्रान्स्वा ओलांद, राष्ट्रपति, फ्रांस

भारत पिछले ३० वर्ष आतंकवाद के संकट से सामना कर रहा है;
परंतु एक भी राज्यकर्ता ने कभी ऐसा वक्तव्य देने का साहस नहीं दिखाया ।
उलटा आतंकवादियों का धर्म नहीं होता,ऐसी रट लगाने का काम किया !

     पैरिस (फ्रांस )- पूरा फ्रांस इस्लामी आतंकवाद की छाया में है,ऐसा फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रान्स्वा ओलान्द ने कुछ दिन पूर्व कहा । नीस शहर में १४ जुलाई को फ्रांस के राष्ट्रीय दिन के कार्यक्रम में एक धर्मांध ने भीड में ट्रक घुसाकर लोगों को कुचल डाला,जिसमें ८४ लोगों की मृत्यु हुई ।

प्रकट किए गए गोपनीय दस्तावेजों का दावा - नेताजी बोस वर्ष १९६८ तक रुस में थे !

     काेलकाता - नेताजी सुभाषचंद्र बोस वर्ष १९६८ तक रशिया में निवास कर रहे थे । क्रांतिकारी वीरेंद्रनाथ चट्टोपाध्याय के सुपुत्र निखिल चट्टोपाध्याय से उनकी भेंट हुई थी,ऐसा दावा रशिया में सक्रिय पत्रकार नरेंद्रनाथ सिंदकर के प्रतिज्ञापत्र में किया गया है ।

चार लाख मंदिर सरकार के हैं अधीन;परंतु एक भी मस्जिद नहीं ! - डॉ.सुब्रह्मण्यम् स्वामी

     कर्णावती (गुजरात) - देश के ४ लाख मंदिरों पर सरकार का नियंत्रण है;परंतु एक भी मस्जिद सरकार के नियंत्रण में नहीं है,ऐसा प्रतिपादन सांसद डॉ.सुब्रह्मण्यम् स्वामी ने किया । वे अरावली जनपद में एक मंदिर में प्राणप्रतिष्ठा महोत्सव के लिए आए थे । डॉ.स्वामी ने आगे कहा,धर्मनिरपेक्ष देश का मुसलमान समाज सहिष्णु न होने से सरकार अथवा प्रशासन एक भी मस्जिद में हस्तक्षेप नहीं कर सकता । (१४ जुलाई)

बंगाल में तृणमूल कांग्रेस के विधायक हमिदुल रहमान की उपस्थिति में धर्मांधों द्वारा हिन्दुआें तथा रथयात्रा पर आक्रमण !

पश्‍चिम बंगाल, बांग्लादेश होने की दिशा में अग्रसर !

     कोलकाता (पं.बंगाल)-बंगाल के जनपद उत्तर दिनाजपुर के रामगंज में हिन्दुआें की रथयात्रा पर धर्मांधों ने आक्रमण किया । पुलिस ने इसमें कोई हस्तक्षेप नहीं किया,इसलिए असुरक्षित हिन्दुआें ने राष्ट्रीय महामार्ग ३१ की यातायात रोक रखी । दूसरे दिन मुसलमानबहुसंख्यक चोपरा में धर्मांधों ने अल्पसंख्यक हिन्दुआें पर बम द्वारा आक्रमण किया । इस समय तृणमूल कांग्रेस के विधायक हमिदुल रहमान उपस्थित थे । धर्मांधों ने हिन्दुआें के अनेक घर जलाए और लूटपाट की । गोलीबारी में कुछ हिन्दू घायल हुए ।

परिहारों की कुलदेवी : गाजणमाता मंदिर की महिमा

      राजस्थान के पाली जनपद में धरमदारी गांव में,पाली से १५ कि.मी.ऊपर पहाडी पर गाजणमाता का देवस्थान है । इस मंदिर की स्थापना १०५० वर्ष पूर्व हुई थी । मंदिर परिसर के आसपास १५ कि.मी.तक जंगल है । आषाढ शुक्ल पक्ष ९ (१३.७.२०१६)को यहां उत्सव हुआ था । इस निमित्त देवी गाजणमाता की महिमा इस लेख द्वारा प्रस्तुत कर रहे हैं ।

वसुधैव कुटुम्बकम् पर आधारित हिन्दू राष्ट्र की संकल्पना आध्यात्मिक है ! - पू. डॉ. चारुदत्त पिंगळे

सनातन के निष्पाप साधक इस अग्निपरीक्षा से निर्दोष छूटेंगे ! - पू. डॉ. चारुदत्त पिंगळे
गोवा की पत्रकार परिषद में बाएं से हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री. रमेश शिंदे, सनातन संस्था के प्रवक्ता श्री. चेतन राजहंस, हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय मार्गदर्शक पूज्य डॉ. चारुदत्त पिंगळे, हिन्दू महासभा के
श्री. शिवप्रसाद जोशी और हिन्दू विधिज्ञ परिषद के गोवा राज्य सचिव अधिवक्ता नागेश ताकभाते
    रामनाथी, गोवा में हुए पंचम अखिल भारतीय हिन्दू अधिवेशन के संदर्भ में पणजी के साथ मुंबई और हुबली (कर्नाटक) में भी पत्रकार वार्ताआें का आयोजन किया गया था । १६ जून को पणजी में हुई पत्रकार परिषद में पत्रकारों ने पंचम अखिल भारतीय हिन्दू अधिवेशन तथा हिन्दू राष्ट्र की स्थापना के लिए समिति द्वारा किए जा रहे कार्य के संदर्भ में जिज्ञासावश कुछ प्रश्‍न पूछे । हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय मार्गदर्शक पूज्य डॉ. चारुदत्त पिंगळेजी ने सटीक उत्तर देकर पत्रकारों की शंकाआें का समाधान किया । इस पत्रकार परिषद में उन्होंने हिन्दू राष्ट्र की आध्यात्मिक परिभाषा स्पष्ट की । पत्रकारों द्वारा पूछे गए कुछ महत्त्वपूर्ण प्रश्‍न और पूज्य डॉ. पिंगळेजी ने दिए उत्तर आगे दिए हैं ।

पाक में हिन्दुआें का बलपूर्वक धर्मांतरण !

भारत में मानवाधिकारवाले व धर्मनिरपेक्षतावादी क्या इससे अनभिज्ञ हैं ?
    इस्लामाबाद पाक में अल्पसंख्यक हिन्दुआें को बलपूर्वक इस्लाम में धर्मांतरित करने की घटनाआें में प्रतिदिन वृद्धि हो रही है । यहां हिन्दुआें का जीवन जीना ही कठिन हो गया है, ऐसा पाक के उमरकोट जिले के सांसद लालचंद मल्ही ने कहा । उन्होंने कहा कि पाक में प्रतिवर्ष लगभग १,००० हिन्दू लडकियों का बलपूर्वक इस्लाम में धर्मांतरण किया जाता है । पाक के हिन्दुआें को देश छोड जाने को विवश किया जा रहा है । इसलिए पाक के अधिकांश हिन्दू परिवार भारत में स्थलांतरित हो गए हैं । इस विषय में चुप रहने का अर्थ है हिन्दू लडकियों को जीवनभर अत्याचार का सामना करने के लिए छोड देना । पाक में मानवाधिकार का खुलेआम उल्लंघन किया जा रहा है । केवल उमरकोट जिले में ही हिन्दुआें की संख्या लगभग ५० प्रतिशत है । पाक का इस्लाम प्रेमी शासन हिन्दुआें की यातनाआें की उपेक्षा कर रहे हैं । (२८.६.२०१६)

गुरुपूर्णिमा (व्यासपूजा) : १९ जुलाई २०१६ को गुरुपूर्णिमा है !


     गुरुपूर्णिमा पर गुरुतत्त्व (ईश्‍वरीय तत्त्व) १ सहस्र गुना अधिक कार्यरत रहता है। इसलिए गुरुपूर्णिमा के आयोजन हेतु अथक परिश्रम (सेवा) व त्याग (सत् हेतु अर्पण) का व्यक्ति को अन्य दिनों की तुलना में १ सहस्र गुना लाभ होता है ।

अफगानिस्तान में हिन्दुआें के केवल २२० परिवार बचे !

कहां संसार पर राज करनेवाले चक्रवर्ती राजा व कहां पडोसी राष्ट्र के हिंदुआें पर भी ध्यान न देनेवाले आज के नेता ! केंद्रशासन अफगानिस्तान के हिंदुआें की ओर ध्यान देगी ?
    काबुल - महाभारत काल में गांधार नाम से प्रसिद्ध अफगानिस्तान में हिन्दुआें की संख्या तीव्रता से घट रही है । वर्ष १९९२ में २ लाख २० सहस्र हिन्दू और सिख धर्मिय रहनेवाले इस देश में अब केवल २२० परिवार ही बचे हैं । नेशनल काउन्सिल ऑफ हिन्दू एंड सिख इस संस्था ने यह ब्यौरा दिया । (यहां मुसलमानों के तुष्टिकरण में लगे भारतीय राज्यकर्ताआें ने पडोसी देशों के हिन्दुआें की अक्षम्य उपेक्षा की । ऐसे में अब पूर्वकाल का भारत निर्माण करने हेतु हिन्दू राष्ट्र (सनातन धर्म राज्य) के अतिरिक्त कोई मार्ग नहीं ! - संपादक) आज भी अफगानिस्तान के गांवों में बच्चों के नाम कनिष्क, वेद इत्यादि रखे जाते हैं ।  (१.७.२०१६)

म्यानमार में बौद्ध और मुसलमानों के बीच में पुनः तनाव !

अवैधरूप से बनाया जानेवाला मदरसा ढहाया !

  • अहिंसावादी बौद्धों को भी धर्मांधों का अपराध रोकने हेतु प्रसंगवश
    कानून हाथ में लेना पडता है !
  • हिन्दुआें को धर्मनिरपेक्षता का परामर्श देनेवाले म्यान्मार के बौद्धों को कभी कुछ नहीं कहते !
    यंगून - म्यांमार के बौद्ध और रोहिंग्या मुसलमान में अनधिकृत रूप से बनाए जानेवाले एक मदरसे पर हुए संघर्ष में एक मुसलमान घायल हो गया, जबकि मदरसे की दीवार ढहा दी गई ।
    म्यांमार में बागो परिसर के थूई था मेईन गांव में अब्दुल शरीफ ने बिना अनुमति लिए घर के परिसर में ही मदरसे का निर्माण आरंभ कर दिया, जिससे यह विवाद उत्पन्न हुआ ।       (२७.०६.२०१५)

अत्यधिक गरम पेय के सेवन से कर्करोग होने की आशंका !

    पैरिस - विश्‍व स्वास्थ्य संगठन से संबंधित संयुक्त राष्ट्रसंघ की संस्था इंटरनैशनल एजन्सी फॉर रिसर्च ऑन कैंसर (आय.ए.आर.सी) नामक संस्था ने ऐसा निष्कर्ष निकाला है कॉफी और अन्य गरम पेय अत्यधिक गरम पीने पर अन्ननलिका का कर्करोग होने की आशंका है । एक सहस्र लोगों का सर्वेक्षण करने पर यह निष्कर्ष निकाला गया । ६५ अंश सेल्सियस से अधिक गरम कॉफी का सेवन करने पर हानि हो सकती है ।
अधिक जानकारी हेतु www.hindujagruti.org

पाकिस्तान में हिन्दू पत्रकार के साथ मुसलमान सहकर्मी करते हैं भेदभाव का व्यवहार !

 ढोंगी धर्मनिरपेक्षतावादी व राजदीप सरदेसाई,
बरखा दत्त जैसे पत्रकार भी इस पर मुंह नहीं खोलेंगे !
    कराची - हिन्दू होने के कारण एक पत्रकार को अन्य मुसलमान सहकर्मियों के साथ पानी पीने, तथा बरतन धोने से मना किए जाने की घटना सामने आई है । इस पत्रकार का नाम साहिब खान ओद है और पाकिस्तान के एक समाचारपत्र ने यह समाचार प्रकाशित किया है । परंतु भेदभाव के सर्व आरोपों को झुठलाते हुए कार्यालयप्रमुख परवेज असलम ने कहा कि ओद अस्वस्थ होने के कारण उन्हें अलग बरतन में पानी और भोजन लेने के लिए कहा गया था । (क्या अस्वस्थ मुसलमान पत्रकारों से भी यही कहा जाता है ? - संपादक)  (३०.६.२०१६)

सनातन धर्म राज्य के लिए प्रयत्न !

      रामनाथी, गोवा में आयोजित पंचम अखिल भारतीय हिन्दू अधिवेशन २५ जून २०१६ को समाप्त हुआ । देश-विदेश के हिन्दुत्वनिष्ठ एक सप्ताह के लिए एकत्रित हुए और उन्होंने अपने विचारों का आदान-प्रदान
किया । पूरे संसार के हिन्दुआें की स्थिति पर इसमें प्रकाश डाला गया । हिन्दुआें पर होनेवाले आघात और उनकी तीव्रता, उन पर संभाव्य उपाय इत्यादि संबंधी विस्तृत चर्चा हुई । हिन्दुआें के संगठन का उत्तम प्रत्यक्ष दर्शन इस अधिवेशन के निमित्त हुआ । पिछले ४ वर्षों से प्रतिवर्ष यह अधिवेशन हो रहा है । हिन्दुआें के दृढ संगठन का यह प्रमाण देता है । देश के हिन्दुआें को चिंतामुक्त करने के लिए अनगिनत कार्यसूची हमारे पास
हैं । इसके लिए प्रत्यक्ष कृति के स्तर पर उतर आना अनिवार्य है ।

पुलिसकर्मियों के प्राण गंवाने का दुःख नहीं और कहते है - इफ्तार पार्टी का आनंद लें !

 पाक उच्चायुक्त की इफ्तार पार्टी में अलगाववादियों का सहभाग !
पाक से मित्रता करने का प्रयास करनेवाली केंद्र सरकार को तमाचा !
अब तो सरकार समझदार बनेगी या अपना सयानापन दिखाती रहेगी ?
     नई देहली - भारत में पाक उच्चायुक्त अब्दुल बासित द्वारा आयोजित इफ्तार पार्टी में कश्मीर के अलगावववादी नेता उपस्थित थे । (देशद्रोही अलगाववादियों को शत्रु राष्ट्र से मित्रता करने देनेवाले राज्यकर्ता देशद्रोहियों पर कभी नियंत्रण प्राप्त कर पाएंगे क्या ? - संपादक) इसी समय कश्मीर में पाक समर्थित आतंकवादियों द्वारा किए आक्रमण में केंद्रीय आरक्षित पुलिस दल के ८ पुलिसकर्मियों की मृत्यु होने की घटना हुई । इस पर बासित ने कहा, यह रमजान का महिना है ।

अमरीका के पश्‍चिम वर्जीनिया में चक्रवाती वर्षा से २३ लोगों की मृत्यु !

वॉशिंग्टन - अमरीका के पश्‍चिम वर्जीनिया प्रांत में चक्रवाती वर्षा के कारण २३ लोगों की मृत्यु हो गई । अनेक स्थानों पर लोगों को पानी जमा हो जाने के कारण फंस गए हैं । ६६,००० लोगों को बिना बिजली के रहना पड रहा है । बाढग्रस्त लोगों के लिए १७ आश्रयस्थान बनाए गए हैं । (२७.०६.२०१५)
महर्षि की दिव्य भविष्यवाणी सत्य सिद्ध हुई !
     महर्षि ने इससे पहले चक्रवाती वर्षा और उससे होनेवाली भीषण हानि की भविष्यवाणी की थी । अमरीका की चक्रवाती वर्षा देखते हुए महर्षि की दिव्य वाणी कितनी सत्य है, इसकी प्रतीति होती है ।

मुर्शिदाबाद में धर्मांधों के घर बम बनाते समय विस्फोट

घर-घर में बम बनाने के कारखाने निर्माण होने देनेवाला बंगाल शासन !
१ मृत ४ घायल
    कोलकाता - बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले के शमशेरगंज भाग में एक धर्मांध घर पर बम बना रहा था, उस समय विस्फोट हो गया । इस विस्फोट में शेख शौकत नामक व्यक्ति की मृत्यु हो गई और ४ लोग घायल हो गए । यह घटना २६ जून की रात को हुई । घायलों को चिकित्सालय भेज दिया गया है ।  इस प्रकरण में पुलिस जांच कर रही है । (बंगाल में निरंतर हो रही बम-विस्फोट की घटना देखते हुए क्या यहां शासन नामक व्यवस्था है ?, ऐसा प्रश्‍न उत्पन्न होता है ! - संपादक) (३०.६.२०१६)

अवयस्क बच्चों पर होते यौन अत्याचारों के विरुद्ध प्रस्तावित कानून का विरोध करने चर्च ने खर्च किए १ सहस्र ३०० कोटी रुपए !

हिन्दुआें के संतों पर कथित यौन शोषण के आरोपों के कारण उनकी अपकीर्ति करनेवालेे
ईसाईयों की चर्च में हो रहे यौन शोषण पर मौन रहते हैं !
    न्यू यॉर्क - अवयस्क बच्चों पर होते यौन अत्याचारों के विरुद्ध न्यायालय में चल रहे अभियोगों में आरोपियों पर दीवानी दावे कर हानिभरपाई मांगने में सुविधा हो; इस हेतु न्यू यॉर्क राज्य के कानून मंडल में नया कानून बनाने का प्रस्ताव रखा गया था । यह कानून न बने; इसके लिए अमरीका के कैथलिक चर्च ने कानून मंडल  के सदस्यों पर दबाव डालकर उनका मन मोडने के लिए दबावगुटों की सहायता ली । इस दबावगुट पर लगभग १ सहस्र ३०० कोटी रुपये खर्च किए गए हैं ।

कला शाखा में सर्वाधिक अंक प्राप्त करनेवाली विद्यार्थिनी के साथ अन्य ३ लोगों को बनाया बंदी !

बिहार के शिक्षा क्षेत्र का जंगलराज !
    पाटलीपुत्र (बिहार) - १२वीं की कला शाखा की परीक्षा में सर्वाधिक अंक प्राप्त करनेवाले विद्यार्थियों का परीक्षाफल घोटाला उजागर हुआ तदुपरांत बिहार शालेय परीक्षामंडल ने पुनः उन विद्यार्थियों को बुलाया । इसमें सर्वाधिक अंक प्राप्त कर प्रथम आई रूबी रॉय भी थी । परीक्षा मंडल के अधिकारियों द्वारा पूछे गए किसी भी प्रश्‍न का उत्तर रूबी नहीं दे पाई ।

उत्तरप्रदेश में ले रहे हैं, ७,००० मुसलमान बच्चे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की पाठशालाआें में शिक्षा !

    प्रयाग (उत्तरप्रदेश) - यहां राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की १,२०० पाठशालाआें में लगभग ७००० मुसलमान विद्यार्थी शिक्षा ले रहे हैं । मुसलमान विद्यार्थी पाठशाला के श्‍लोक पठन तथा भोजन मंत्र जैसे सर्व नियमों का सौ प्रतिशत पालन करते हैं । विद्या भारती के राज्य निरीक्षक चिंतामणी सिंह ने कहा, संघ के शिक्षा संस्थानों में सीखनेवाले मुसलमान लडके-लडकियों ने शिक्षा, क्रीडा और संस्कृति के क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य किया है । संघ की पाठशालाआें में दिन का प्रारंभ सूर्यनमस्कार व वन्दे मातरम् से होता है । राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, एक राष्ट्रप्रेमी संगठन है । संघ मुसलमानविरोधी नहीं है अथवा किसी धर्म के विरुद्ध नहीं है, ऐसा भी श्री. सिंह ने कहा । भाजपा की सरकार सत्ता में आई, तब से गत २ वर्षों में मुसलमान विद्यार्थियों की संख्या ३० प्रतिशत बढ गई है । (२८.६.२०१६)

पाटलीपुत्र में जीन्स पहननेवाली लडकियों का महाविद्यालय में प्रवेश बंद !

अब स्त्रीमुक्तिवालों ने इस पर कुहराम मचाया, तो इसमें नया क्या ?
    पाटलीपुत्र (पटना, बिहार) - यहां के बी.एड. महाविद्यालय में प्रवेश का आवेदन देने आई लडकियों को सलवार-कुर्ता पहनना बंधनकारी है । जीन्स-टॉप पहनकर आई लडकियों को प्रवेशद्वार पर ही रोका गया । (ऐसे नियमों से कुछ सीमा में संस्कृति रक्षा होगी ! नैतिकता के आधार पर ब्रिटेन तथा अमरीका के कुछ विद्यालयों में लडकियों के तंग स्कर्ट पहनने पर प्रतिबंध है । शासन यदि विद्यालयों में ही नैतिकता की शिक्षा दें, तो महाविद्यालय प्रशासन को ऐसा बताना नहीं पडेगा ! - संपादक)

विधायक राजासिंह ठाकुर की हत्या करनेवाले थे इसिस के आतंकी !

हिन्दुओ, जिहादी आतंकवादी आपके नेताआें को चुन-चुनकर
मार डालने से पूर्व हिन्दू राष्ट्र की स्थापना करें !
विधायक राजासिंह ठाकुर
भाग्यनगर (तेलंगाना) - यहां २९ जून को भाग्यनगर से बंदी बनाए गए इसिस के ५ आतंकवादी शहर के गोशामहल स्थित भाजपा के विधायक और प्रखर हिन्दुत्वनिष्ठ राजासिंह ठाकुर की हत्या करनेवाले थे, ऐसा जांच से सामने आया है । इससे पूर्व वे शहर में दंगे कराने के लिए भाग्यलक्ष्मी मंदिर में गोमांस फेंकनेवाले थे । रमजान के महीने में ही वे दंगे करवाने के लिए शक्तिशाली बम बना रहे थे । राष्ट्रीय अन्वेषण तंत्र (एनआईए) ने इससे संबंधित आतंकवादियों को बंदी बनाया है ।

जिहादी आतंकवादी हाफीज सईद के दामाद अब्दुल मक्की का विषवमन !

(कहते हैं) भारतीय सैनिक गीदड हैं !
भारतीय शासकों ने सेना का मनोबल तोडा,
इसलिए आतंकवादी ऐसा बोलने का साहस करते हैं !
      नई देहली - पाकस्थित आतंकवादी संगठन जमात-उद-दवा के प्रमुख हाफीज सईद के दामाद अब्दुल रहमान मक्की ने भारतीय सैनिकों की तुलना गीदडों से करते हुए कहा कि पम्पोर में आक्रमण हुआ, उस समय भारतीय प्रसारमाध्यम चिल्ला रहे थे हमारे हीरो प्रशिक्षण समाप्त कर बस से आ रहे थे, तब २ आतंकवादियों ने उन्हें घेर लिया; पर मैं कहता हूं हीरो नहीं; गीदडों के झुंड को २ बाघों ने घेरा ।
    जम्मू-कश्मीर के पम्पोर में २६ जून को हुए २ आतंकवादियों के आक्रमण में केंद्रीय आरक्षित पुलिस दल के ८ पुलिस शहीद हुए थे । इस आक्रमण के उपरांत अगले ही दिन गुजरानवाला में जमात-उद-दवा की सभा में मक्की ने यह वक्तव्य किया ।
    (भारत सरकार दुर्बल होने के कारण ही भारतीय सैनिक सक्षम होते हुए भी पाक को समाप्त नहीं कर सकते, यह देश का दुर्भाग्य है ! - संपादक) 

सीमापार से गोलीबारी चलती ही रही, तो भारत गोलियों का हिसाब नहीं रखेगा !

पाक का नाम लिए बिना केंद्रीय गृहमंत्री का व्यर्थ प्रलाप !
  •  भारतीय नेताआें की धमकियों का पाक की दृष्टि से कोई मूल्य नहीं है ।
  •  गत २ वर्ष में पाक ने अनेक बार आक्रमण कर सैनिकों की हत्या की है । इतना सबकुछ होने पर भी निष्क्रिय रहनेवाले गृहमंत्री !
    रांची (झारखंड) - सीमापार से ऐसी ही गोलीबारी चलती रहेगी, तो उसका प्रत्युत्तर देते समय भारत गोलियों का हिसाब नहीं रखेगा, ऐसी चेतावनी केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने पाक का नाम लिए बिना पाक को दी । २५ जून को जम्मु-कश्मीर के पंपोर में हुए एक आतंकवादी आक्रमण में केंद्रीय सुरक्षा बल के ८ पुलिस हुतात्मा हुए । इस पर राजनाथ सिंह ने रांची की एक सभा में उपर्युक्त वक्तव्य दिया ।

बांग्लादेश में हो रहा है हिन्दुआें का वंशसंहार !

हिन्दू राष्ट्र में (सनातन धर्म राज्य में) अन्य धर्मियों का क्या होगा, इसपर नौटंकी करनेवाले, मुसलमान बहुसंख्यक देश में हिन्दुआें के गले काटे जाते हैं, तब अपना मुंह नहीं खोलते !
* इस्लाम का अर्थ है, शांति, ऐसा कहनेवाले क्या अब मुंह खोलेंगे ?* भगवे आतंकवाद का ढोल पीटनेवाले क्या हरे आतंकवाद पर बोलेंगे ?
    ढाका - बांग्लादेश में हिन्दुआें का वंशसंहार चल रहा है । अब और एक हिन्दू की हत्या हुई । रौझान चितगांव में हिन्दू वैद्य तथा आयुर्वेदिक वनस्पतियों का व्यापार करनेवाले सुलाल चौधरी की जिहादी आतंकवादियों ने सिर काटकर २५ जून को निर्घृण हत्या की । पुलिस का संशय है कि आयुर्वेदिक उपचारपद्धति इस्लामविरोधी है, इस कारण से यह हत्या हुई । बांग्लादेश की इबेला नामक समाचार-वाहिनी को छोड किसी भी प्रसारमाध्यम ने यह समाचार नहीं दिया । (बांग्लादेश की समाचार-वाहिनियों का हिन्दूद्वेष ! - संपादक) कुछ दिन पहले एजैनैदाह जनपद के एक मंदिर में भी श्यामनोंद दास नामक ४५ वर्षीय पुजारी की गला काटकर हत्या की गई । सवेरे पूजा की तैयारी करते समय दुपहिए से आए ३ युवकों ने मंदिर में घुसकर दास की गला काटकर हत्या की । पुलिस की जानकारीनुसार जनवरी २०१६ से आज तक जिहादी आतंकवादियों ने ४० लोगों की हत्या की है । (२.०७.२०१६)

साधकों को सूचना एवं पाठक, हितैषियों तथा धर्मप्रेमियों से विनती !

सनातन के विविध आश्रमों में निम्नलिखित उपकरणों की आवश्यकता है !
     सनातन के आश्रमों में सैकडों साधक पूर्णकाल साधना करते हैं । इसके साथ ही राष्ट्र और धर्म कार्य में अधिकाधिक समय देना संभव हो, इस हेतु यहां पूर्णकालिक साधकों तथा राष्ट्र एवं धर्म प्रेमियों की संख्या प्रतिदिन बढ रही है । इसके लिए इन आश्रमों में नीचे दी गई सूची के अनुसार, इन उपकरणों की शीघ्रता से आवश्यकता है ।

विद्यार्थियो, शिक्षकदिवस गुरुपूर्णिमा पर मनाएं !

     पूर्व काल में शिक्षकों को गुरु अथवा आचार्य कहा जाता था । गुरु-शिष्य परंपरा हिन्दू संस्कृति की अनमोल विशेषता है । गुरुपूर्णिमा गुरु के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने का दिन है । गुरु जैसे शिष्यों को ब्रह्मज्ञान देते हैं, वैसे शिक्षक बच्चों को विद्यारूपी अमूल्य धन देते हैं; इसलिए उनके प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने हेतु शिक्षकदिवस गुरुपूर्णिमा पर मनाएं । गुरुपूर्णिमा पर शिक्षकदिवस मनाने से हमारी संस्कृति का संरक्षण होगा ! 

धन्य-धन्य हम हो गए गुरुदेव !

धन्य-धन्य हम हो गए गुरुदेव ।
साधना का जो मार्ग दिया ॥
अंध:कार में उजाला जो दिखा दिया ॥
चरणसेवा का जो भाग्य मिला ॥
साधक, संतों का जो सत्संग दिया ॥
प्यार से आपने जो अपना लिया ॥
कृपा का जो भंडार दिया ॥

परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी के ओजस्वी विचार !

सनातन संस्था के संस्थापक प.पू. डॉ. आठवलेजी
के ओजस्वी विचारों से परिचय करानेवाला ग्रंथ !
    ग्रंथ में प्रस्तुत किए परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी के विचार राष्ट्र एवं धर्म प्रेमियों के लिए दिशादर्शक हैं । ये सामान्य जन्महिन्दुआें को भी जागृत करते हैं । भ्रष्टाचार, न्याय, प्रशासन, लोकतंत्र आदि अनेक विषयों पर उनके विचार समाज, राष्ट्र, धर्म एवं संस्कृति की हितरक्षा हेतु हैं । ये विचार वर्तमान काल के लिए सर्वाधिक उपयुक्त हैं और हिन्दू राष्ट्र-स्थापना का कार्य करनेवालों के लिए भी ये ब्राह्मतेज और क्षात्रतेज युक्त विचार प्रेरणादायी हैं ।    

गुरुपूर्णिमा के निमित्त विविध संतों के संदेश !

मनुष्यजीवन का सार्थक करने के लिए अध्यात्ममार्ग पर चलें !  - योगतज्ञ दादाजी वैशंपायन, कल्याण, ठाणे
हिन्दू धर्म का तत्त्वज्ञान सर्वश्रेष्ठ ही है । किसी भी कठिन क्षण का सामना करने का सामर्थ्य हिन्दू धर्म ही देता है । मनुष्य जीवन में अध्यात्म का अनन्यसाधारण महत्त्व है । अध्यात्म को सफल और आनंदमय जीवन की आधारशिला ही मानना पडेगा । जो इस आधारशिला को दृढ बनाता है, उसका भावी जीवन सफलतापूर्वक संपन्न होता है ।

मोरटक्का (मध्यप्रदेश) में गुरुपूर्णिमा महोत्सव का आयोजन

     मोरटक्का (मध्यप्रदेश) - श्री सद्गुरु अनंतानंद साईश शैक्षणिक एवं पारमार्थिक सेवा ट्रस्ट, इंदौर न्यास की ओर से श्री सद्गुरु सेवा सदन मोरटक्का आश्रम में १८ जुलाई से १९ जुलाई की कालावधि में गुरुपूर्णिमा महोत्सव का आयोजन किया गया है । १९ जुलाई को सवेरे ८ बजे श्री व्यास पूजन एवं श्री सत्यनारायण पूजन से महोत्सव आरंभ होगा । तदुपरांत प.पू. श्री अनंतानंद साईश, प.पू. भक्तराज महाराज एवं प.पू. रामानंद महाराजजी की पादुकाआें का पूजन एवं दर्शन समारोह होगा । इस समारोह के लिए उपस्थित रहकर लाभ लें, ऐसा आवाहन किया गया है ।

गुरुचरणों में प्रतिक्षण कृतज्ञता व्यक्त करना ही खरी गुरुदक्षिणा है !


 

सभी साधकों की विविध प्रकार से उन्नति हो, इसलिए अपार परिश्रम करनेवाले हमारे परम पूज्य डॉक्टरजी !

 १. प.पू. डॉक्टरजी के प्रथम दर्शन
वर्ष १९९० में शीव (मुंबई) आश्रम में मुझे प.पू. डॉक्टरजी के दर्शन हुए । उस समय सेवा के निमित्त आश्रम में मेरा आना-जाना लगा रहता था । इसके उपरांत मुझे आश्रम में पूर्णकालीन रहने का सौभाग्य मिला । उस समय मैं और श्री. दिनेश शिंदे, दोनों पूर्ण समय के लिए आश्रम में रहने लगे ।
२. दूसरों से कैसे बोलना चाहिए, मिल-जुलकर कैसे रहना चाहिए, यह अपनी कृति से सिखाना

साधिका को तीव्र आध्यात्मिक कष्ट होते समय उस पर विजय पाना सिखानेवाले पूज्य डॉ. चारुदत्त पिंगळेजी ! गुरुपूर्णिमा के संदर्भ में सनातन संस्था की विशेषताएं

१. सनातन संस्था में अनेक संत हैं, फिर भी सनातन संस्थाके प्रेरणास्रोत प.पू. भक्तराज महाराजजी की  गुरुपूर्णिमा मनाई जाती है ।
२. विविध संत एवं संप्रदायों में एक प्रमुख होते हैं; इसलिए उनकी गुरुपूर्णिमा मनाई जाती है और उनके विषय में जानकारी स्मारिका अथवा पत्रक में होती है ।  सनातन में अनेक साधक संत बने । इसलिए उनके संदर्भ में हुई अनुभूतियां और उनसे सीखने के लिए मिले सूत्र सनातन प्रभात नियतकालिकों में प्रकाशित किए जाते हैं । - (परात्पर गुरु) डॉ. आठवले    

सनातन संस्था के कार्य हेतु आवश्यक सबकुछ ईश्‍वर देंगे, प.पू. डॉक्टरजी के इस वाक्य की साधकों को हो रही प्रतीति !

पू. श्री. पृथ्वीराज हजारे
वर्ष १९९३ में ईश्‍वरीय कृपा से ही मैं संस्था के संपर्क में आया    । पिछले २३ वर्ष संस्था का कार्य निकट से देखने तथा उसमें सहभागी होने का अवसर हमें मिला । इन २३ वर्षों में संस्था का कार्य कई गुना बढ गया । आश्रमों का निर्माण हुआ, आश्रम में पूर्णकालीन साधकों की संख्या बढती गई और पिछले ४ वर्ष अखिल भारतीय हिन्दू अधिवेशनों जैसे राष्ट्रीय कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है । यह सब करते समय कभी कोई आर्थिक अडचन उत्पन्न नहीं हुई, ऐसा विचार मन में आते ही एक प्रसंग का स्मरण हुआ ।

गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः... इस श्‍लोक की सनातन के साधकों को हो रही प्रत्यक्ष प्रतीति, साधकों का महत्भाग्य !


गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्‍वरः ।
गुरुरेव परब्रह्म तस्मै श्रीगुरवे नमः ॥

    अर्थ : गुरु स्वयं ब्रह्मा, श्रीविष्णु और महेश हैं । वे ही परब्रह्म हैं । ऐसे श्री गुरु को मैं नमस्कार करता हूं ।
    अनेक भजनपंक्तियों में श्री गुरु का वर्णन देवताआें के रूप में किया गया है । साधना आरंभ करने के उपरांत मुझे सदैव यही लगता कि साधकों में गुरु के प्रति अनन्य भाव निर्माण होने के लिए श्रीगुरु को साक्षात ब्रह्मा-विष्णु-महेश माना गया है । गुरु त्रिदेवों समान हैं, ऐसा भाव रखना और श्रीगुरु का प्रत्यक्ष वैसा होने में अंतर
है ।

मेनराय दंपति - सनातन की एक आदर्श दंपति !

पू. भगवंतकुमार मेनराय
पू. सूरजकांता मेनराय
पूज्य भगवंत मेनराय और पूज्य सूरजकांता मेनराय का कुछ महीनों से  सनातन के रामनाथी, गोवा आश्रम में निवास रहा है । आश्रम में नए होकर भी वे आश्रमजीवन से शीघ्र एकरूप हो गए हैं । मेनराय पती-पत्नी के अनेक सद्गुणों का हुआ दर्शन इस लेख में शब्दबद्ध किया है । 
१. पू. सूरजकांता मेनरायदादी

विविध अमृतों के कुंभमेले स्वरूप, अमृतमयी, अमृतानंदी परात्पर गुरु डॉ. जयंत आठवले !

श्री. सागर निंबाळकर
१. अध्यात्मकुंभ
१ अ. साधनामृत : साधना के सुलभ सिद्धांत सिखाकर हिन्दुआें को साधना के लिए प्रवृत्त किया और साधनामृत से समाज को पावन किया ।
१ आ. योगामृत : शीघ्र आध्यात्मिक उन्नति साध्य करवानेवाले गुरुकृपायोग का योगामृतरूपी कुंभ समाज के लिए खोल दिया । 
१ इ. एकादशामृत : साधना का तत्त्व, साधना में होनेवाली ४ चूकें और साधना के ६ सिद्धांत बताकर एकादशरूपी अमृत समष्टि को दिया ।
(अधिक जानकारी हेतु पढें सनातन का ग्रंथ गुरुकृपायोगानुसार साधना)
१ ई. नामामृत : योग्य नामजप और उसकी पद्धति समाज को बताई ।